रसायन विज्ञान (भाग-2)

रसायन विज्ञान (भाग-2)

भाग 1 के आगे पढ़ें:

रसायन विज्ञान (भाग: 2)

धातु यौगिक:

सोडियम (Na):

  1. अत्यंत ही क्रियाशील तत्व होने के कारण यह मुक्त अवस्था में नहीं पाया जाता है।
  2.  संयुक्त अवस्था में यह पर्याप्त मात्रा में क्लोराइड नाइट्रेट कार्बोनेट बोरेट और सल्फेट के रूप में पाया जाता है।
  3.  सोडियम धातु का निष्कर्षण कष्ट न विधि द्वारा किया जाता है।
  4.  सोडियम धातु चांदी के समान सफेद धातु है।
  5.  इस का आपेक्षिक घनत्व 0.97 होता है।
  6.  पानी से हल्का होने के कारण यह पानी पर तैरने लगता है।
  7.  सोडियम धातु बेंजीन तथा इथर में विलय होता है।
  8. सोडियम के टुकड़े को यदि पानी में डाला जाए तो वह तैरता हुआ जलने लगेगा।
  9. सड़क पर प्रयोग की जाने वाली पीली लाइट में सोडियम का प्रयोग करते हैं।
  10. सोडा लाइम NaOH और CaO का मिश्रण है।
  11. सोडियम एक ऐसी धातु है जिसे चाकू से काटा जा सकता है।
  12. सोडियम का संग्रह मिट्टी के तेल (केरोसिन) में करना चाहिए।
  13. कास्टिक सोडा का रासायनिक सूत्र NaOH है।
  14. बेकिंग सोडा का रासायनिक सूत्र NaHO3 है ( सोडियम बाइकार्बोनेट)
  15. आटे में खाने वाला सोडा बेकिंग सोडा मिलाया जाता है जिससे मुक्त कार्बन डाइऑक्साइड के कारण रोटी फूल जाती है। डबलरोटी के कारखाने में सोडियम बाइकार्बोनेट का प्रयोग होता है।
  16. सोडियम बाइकार्बोनेट गर्म होने पर कार्बन डाइऑक्साइड उत्पन्न करता है अतः यह आग बुझाने में भी उपयोगी है।
  17. फोटोग्राफी में सामान्यता प्रयुक्त होने वाले हाइपो का रासायनिक नाम सोडियम थायोसल्फेट (Na2S2O3.5H2O) है।
  18. समुद्री जल में सर्वाधिक मात्रा में पाया जाने वाला लवण सोडियम क्लोराइड है।
  19. सोडियम कार्बोनेट NaOH कास्टिक सोडा का निर्माण साल्वे प्रक्रम द्वारा औद्योगिक स्तर पर किया जाता है।
  20. खाने का नमक (NaCl) मैग्नीशियम क्लोराइड जैसी आसंजक अशुद्धता होने के कारण ही यह बरसात के मौसम में गीला हो जाता है।
  21. आयोडीन कृत नमक में  पोटेशियम आयोडाइड होता है।
  22. रक्त कोशिकाओं में मानव रक्त सोडियम नाइट्रेट का डेक्सट्रेट के साथ मिलकर रखा जाता है।

मैग्नीशियम:

  1. मैग्नीशियम, मैग्नीशियम सल्फेट के रूप में झरने में तथा मैग्नीशियम क्लोराइड के रूप में समुद्री जल में पाया जाता है।
  2.  मैग्नीशियम चांदी की तरह उजली और चमकीली धातु है।
  3.  यह मुलायम नम्य  तथा प्रतन्य  धातु होने के कारण इसे आसानी से तार या फीते के रूप में प्राप्त किया जा सकता है।
  4. शुष्क ईथर की उपस्थिति में यह इथाइल आयोडाइड या ब्रोमाइड से प्रतिक्रिया करके इथाइल मैग्नीशियम आयोडाइड या ब्रोमाइड बनाता है, जिसे ग्रिगनार्ड  रीजेंट कहते हैं।
  5. मैग्नीशियम धातु का निष्कर्षण मुख्यता कारनेलाइट नामक अयस्क से किया जाता है।
  6. मैग्नीशियम धातु नाइट्रोजन में जलती है।
  7.  मैग्नीशियम नाइट्रोजन के साथ प्रतिक्रिया करके मैग्नीशियम नाइट्राइट बनाता है।
  8.  ‘मिल्क ऑफ मैग्नीशिया’ मैग्नीशियम हाइड्रोक्साइड का एक निलंबन है।
  9. मैग्नीशियम की मिश्र धातु मगेलिनियम काफी हल्का होता है इसी कारण इसका उपयोग हवाई जहाज, तराजू आदि के निर्माण में किया जाता है।
  10.  मैग्नीशियम की मिश्र धातु डूरालुमिन का उपयोग भी हवाई जहाज के निर्माण एवं प्रेशर कुकर के निर्माण में किया जाता है।
  11.  फ्लैश बल्बों में नाइट्रोजन गैस के वायुमंडल में मैग्नीशियम का तार लगाया जाता है।
  12. इप्सम अम्ल का रासायनिक सूत्र MgSO4.7H2O होता है।
  13. मैग्नीशियम हाइड्रॉक्साइड(Mg(OH)2) क्षार है जो प्रति अम्ल के रूप में कि अमृता को पेट में कम करने के लिए बनाई जाने वाली दवाओं में प्रयुक्त होता है
  14. मैग्नीशियम के प्रमुख उपयोग Flashlight रिबन बनाने में फोटोग्राफी एवं आतिशबाजी में ग्रिगनार्ड रीजेंट बनाने में मिश्र धातुओं के निर्माण में किया जाता है।

 एलुमिनियम:

  1. एल्युमिनियम धातु प्रकृति में स्वतंत्र अवस्था में नहीं पाई जाती है इसका निष्कर्षण यौगिकों से ही किया जाता है।
  2.  यह बॉक्साइट कोरंडम, डायस्पोर,  फेल्सपार,  अबरख,  काओलिन, क्रायोलाइट, आदि रूपों में मिलता है।
  3. बॉक्साइट अयस्क से एलुमिनियम प्राप्त किया जाता है।
  4. बॉक्साइट से एल्युमीनियम धातु का निष्कर्षण विद्युत अपघटन द्वारा किया जाता है।
  5. भूपटल में एलुमिनियम की मात्रा लोहे से अधिक है फिर भी एलबम नियम लोहे से महंगा है क्योंकि एल्मुनियम उत्पादन की धात्विक विधियां लोहे की  अपेक्षा अधिक खर्चीली हैं।
  6. क्रायोलाइट में खुले हुए शुद्ध Al2O3  के फायदे अपघटन द्वारा एल्मुनियम प्राप्त किया  जाता है।
  7.  एल्युमीनियम भूपर्पटी में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला धातु है।
  8.  ऑक्सीजन तथा सिलिकॉन के बाद सबसे अधिक पाया जाने वाला तीसरा तत्व एल्मुनियम है।
  9.  बॉक्साइट एल्मुनियम का मुख्य अयस्क है जो सर्वप्रथम फ्रांस के बॉक्स नामक स्थान पर पाया गया था, इसी कारण इसका नामकरण बाक्साइट किया गया।
  10.  यह चांदी के समान चमकीली धातु है यह उष्मा तथा विद्युत का सुचालक होता है।
  11. एल्युमिनियम धातु अपने ही अयस्क में रचित होती है।
  12. पोटाश एलम सामान्य फिटकरी का रासायनिक नाम हाइड्रेटेड पोटेशियम एलुमिनियम सल्फेट (K2SO4.Al2(SO4).24H2O) होता है।
  13. पोटाश एलम पानी के शोधन में उपयोगी है क्योंकि यह जल की कठोरता को दूर कर देती है बॉक्साइट का रासायनिक नाम हाइड्रेटेड एलुमिना है।

 कैल्शियम:

  1. कैल्शियम प्रकृति में मुक्त अवस्था में नहीं पाया जाता है परंतु यह सल्फेट, फास्फेट, कार्बोनेट, सिलिकेट, फ्लोराइड आदि  यौगिकों के रूप में प्रकृति में बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है।
  2. कैल्शियम के यौगिक पृथ्वी की परत में लगभग 3.5% मात्रा में उपस्थित होते हैं।
  3. कैल्शियम धातु का निष्कर्षण द्रवित कैल्शियम क्लोराइड एवं कैल्शियम  फ्लोराइड के विद्युत अपघटन द्वारा किया जाता है।
  4. क्विक लाइम या कैल्शियम ऑक्साइड का प्रयोग सीमेंट कंक्रीट एवं कांच निर्माण में किया जाता है।
  5. विरंजक चूर्ण या कैल्शियम हाइपोक्लोराइट (CaOCl2)  को सामान्य भाषा में ब्लीचिंग पाउडर कहते हैं इसका उपयोग जल की अशुद्धता को दूर करने के लिए किया जाता है लेकिन पाउडर को कैल्शियम आक्सीक्लोराइड भी कहते हैं।
  6. हेज़क्लेवर विधि ब्लीचिंग पाउडर के उत्पादन की व्यापारिक विधि है, एस्बेस्टस, कैल्शियम और मैग्नीशियम से यह बनता है।
  7. यह अम्लो से प्रतिक्रिया कर कर हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करता है|
  8. यह क्षारों के साथ कोई भी प्रतिक्रिया नहीं करता है।
  9. हड्डियों और दांतों में मजबूत रासायनिक द्रव्य कैल्शियम फास्फेट होता है।
  10. प्लास्टर ऑफ पेरिस का रासायनिक नाम कैल्शियम फास्फेट हाइड्रेट और रासायनिक सूत्र CaSO4.2H2O है।
  11. कैल्शियम धातु के निष्कर्षण में कैल्शियम क्लोराइड में कैल्शियम क्लोराइड मिलाया जाता है क्योंकि वह द्रवणांक घटाता है।

आयरन (लोहा):

  1. पृथ्वी के गर्भ में दूसरा सबसे  ज्यादा पाई जाने वाली धातु लौह है।
  2. ऑक्सीजन एवं नमी की उपस्थिति में लोहे में जंग लग जाती है जिसमें फेरिक एवं फेरस ऑक्साइड (Fe2O3.XH2O) बनता है।
  3. लोहे का शुद्धतम रूप पिटवा लोहा है।
  4. लोहा हरी सब्जियों में प्राकृतिक रूप से प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
  5. हेमा टाइट लोहे का एक प्रमुख अयस्क है।
  6. टेप रिकॉर्डर की टेप पर  फेरो मैग्नेटिक चूर्ण का लेप किया जाता है।
  7. हरा कसीस (Green Virtiol) का रासायनिक नाम फेरस सल्फेट (FeSO4.7H2O) है, जिसका मुख्य उपयोग चिकित्सा क्षेत्र में आयरन की कमी को दूर करने वाली औषधियां बनाने में किया जाता है ।
  8. फेरिक क्लोराइड को फटे हुए स्थान पर लगाने से रक्त का बहना रुक जाता है।
  9. रक्त तप्त लोहे पर जलवाष्प प्रवाहित करने पर H2 गैस बनती है।
  10. शरीर में लोहे की मात्रा में अधिकता से मनुष्य में सिडरोसिस नाम की बीमारी हो जाती है।

तांबा:

  1. तांबा धातु पीतल, कांस्य तथा जर्मन सिल्वर मिश्र धातुओं में अभय घटक के रूप में विद्यमान है।
  2. कैलोरीमीटर तांबा से बनाया जाता है।
  3. तड़ित चालक तांबे से निर्मित होते हैं।
  4. तांबा एक अचुंबकीय धातु है।
  5. मानव शरीर में तांबा धातु की मात्रा में वृद्धि से विल्सन बीमारी होती है।
  6. सर्वप्रथम मनुष्य ने तांबा धातु का प्रयोग सिखा था।
  7. तांबा को वायु में थोड़ी देर रखने पर उस उसके ऊपर हरे रंग का बेसिक कार्बोनेट की परत जम जाती है।
  8. सोने के आभूषण बनाते समय उसमें तांबा मिलाया जाता है।
  9. तूतिया या नीला थोथा का रासायनिक नाम कॉपर सल्फेट पेंटा हाइड्रॉक्साइड (CuSO4.5H2O) है।
  10. तांबा का शत्रु तत्व गंधक (सल्फर) है।
  11. वाटर टैंकों में शैवाल को नष्ट करने के लिए कॉपर सल्फेट का प्रयोग करते हैं।

जस्ता:

  1. जस्ता धातु का निर्माण मुख्यता जिंक ब्लेंड नामक एस्से किया जाता है।
  2. राजस्थान स्थित जावर की खानें जस्ता के लिए प्रसिद्ध है लोहे को जंग से बचाने के लिए जस्ता की परत चढ़ाने की प्रक्रिया को यशदीकरण (गैल्वेनाइज़ेशन) कहते हैं।
  3. धान का खैरा रोग जस्ते की कमी से होता है।
  4. फिलास्फर वूल, जिंक ऑक्साइड होता है।
  5. सफेद कसीस का रासायनिक नाम जिंक सल्फेट (ZnSO4.7H2O) होता है।
  6. लिथोपोन,  जिंक सल्फाइड और बेरियम सल्फेट से बना होता है इसका उपयोग पेंटिंग कागज और फेस पाउडर बनाने में किया जाता है।
  7. लकड़ी की वस्तुओं को कीड़ों से बचाने के लिए उस पर जिंक क्लोराइड का उपयोग किया जाता है।
  8. जिंक फास्फाइड (Zn3P2)  एक शक्तिशाली कृतंकनाशी विष होता है, जिसे घरेलू कीड़े मकोड़ों एवं चूहों को मारने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  9. रंगने में काम  आने वाला तीखा पदार्थ जिंक फास्फेट (Zn3(PO4)3)है
  10. जिंक धातु गर्म सोडियम हाइड्रोक्साइड विलियन से अभिक्रिया कर हाइड्रोजन गैस उत्पन्न करती है।

चांदी:

  1. चांदी विद्युत का सबसे अच्छा सुचालक है।
  2. चांदी के बर्तन कुछ समय बाद काले पड़ जाते हैं क्योंकि इस पर सल्फाइड का लेप बन जाता है।
  3. चांदी का निष्कर्षण मुख्यता अर्जेंटाइड नामक अयस्क से किया जाता है।
  4. चांदी के निष्कर्षण के लिए साइनाइड विधि का प्रयोग करते हैं।
  5. सिल्वर क्लोराइड (AgCl) को हॉर्न सिल्वर भी कहते हैं।
  6. सिल्वर नाइट्रेट (AgNO3) या  लूनर कास्टिक कोपरा या रंगीन बोतलों में रखा जाता है क्योंकि यह सूर्य के प्रकाश में अपघटित तो हो जाता है।
  7. फोटोग्राफी में सिल्वर ब्रोमाइड (AgBr) का उपयोग होता है।
  8. कृत्रिम वर्षा कराने में सिल्वर आयोडाइड (AgI) रसायन का प्रयोग किया जाता है।

सोना:

  1. सोने का निष्कर्षण मुख्यता सिल्वर नाइट्रेट और केलावैराइट अयस्कों से किया जाता है।
  2. सोना अम्लराज में घुल जाता है सोने को कठोर बनाने के लिए उसमें तांबा मिलाया जाता है।
  3. सोना धातु प्रकृति में स्वतंत्र अवस्था में पाई जाती है।
  4. सोना अधिक लचीला और पीटकर पत्थर बनाए जाने योग्य धातु है।
  5. स्वर्ण आभूषणों पर हॉलमार्क का चिन्ह का प्रयोग किया जाता है।
  6. पाइराइट्स को बेवकूफों का सोना (फूल्स गोल्ड) नाम से भी जाना जाता है।
  7. शुद्ध सोना 24 कैरेट का होता है, 18 कैरेट के मिश्रित सोने में शुद्ध सोना 75% होता है।

पारा:

  1. पारा का निष्कर्षण सिनेबार से किया जाता है।
  2. किसी अमलगम में पारा सदैव एक अनिवार्य घटक होता है।
  3. उच्च संचालन शक्ति के कारण पारे का साधारणतया तापमापी यंत्रों में उपयोग होता है।
  4. मरकरी अपारा को क्विक सिल्वर ( Quick Silver) के नाम से भी जाना जाता है।
  5. तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने वाली  मिनामाता (Minamata) पारा के कारण होता है।
  6. सामान्य ट्यूबलाइट एवं फ्लोरोसेंट लाइट में आर्गन के साथ मरकरी वेपर भरी जाती है।
  7. सिंदूर (Vermillion) का रासायनिक नाम मरक्यूरिक सल्फाइड (HgS) होता है, HgS को ही सिनेबार भी कहते हैं।
  8. कैलोमल का रासायनिक सूत्र  Hg2Cl2 होता है।
  9. पारा को लोहे के पात्र में रखा जाता है।
  10. औषधियों में मकर ध्वज के रूप में प्रयुक्त रसायन HgS होता है।

सीसा:

  1. सीसा का निष्कर्षण मुख्यता गैलेना नामक अयस्क से किया जाता है।
  2. सीसा एक प्रमुख वायु प्रदूषक है जो वाहनों के दुनिया से निकलता है।
  3. संचायक बैटरी में शीशा का प्रयोग किया जाता है।
  4. रेड लेड (Pb3O4) (ट्राईप्लम्बिक टेट्राऑक्साइड) को मिनियम नाम से भी जानते हैं। इसका उपयोग बैटरी निर्माण शीशे के ग्लास और जंग रहित प्राइमर पेंट बनाने में होता है।
  5. लेड आक्साइड (PbO) का व्यापारिक नाम लिथार्ज़ है।

शेष अगले भाग में-

रसायन विज्ञान (भाग- 1) पढ़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!

 

हमारे YouTube चैनल से जुड़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!