रसायन विज्ञान (भाग-3)

रसायन विज्ञान (भाग-3)

भाग 2 के आगे पढ़ें:

रसायन विज्ञान (भाग: 3)

अन्य धातुएं:

  1. प्लेटिनम धातु को सफेद स्वर्ण के नाम से जाना जाता है। प्लेटिनम धातु को ‘एडम उत्प्रेरक’ भी कहते हैं।
  2. प्लेटिनम कठोरतम धातु है।
  3. टंगस्टन बहुत कठोर व तन्य धातु होती है, बिजली के बल्ब के फिलामेंट इसी से बनाए जाते हैं राजस्थान स्थित ‘डेगाना’ टंगस्टन के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है।
  4. नाइक्रोम के तार का प्रयोग विद्युत प्रेस में होता है।
  5. गैलियम धातु का गलनांक कितना कम होता है की वह हाथ में ही पिघल जाती है।
  6. कैडमियम या बोरान का उपयोग नाभिकीय रिएक्टर में न्यूट्रॉन नियंत्रक के रूप में किया जाता है।
  7. सोना चांदी एवं तांबा प्रकृति में स्वतंत्र अवस्था में पाए जाते हैं।
  8. कोबाल्ट एक रेडियोधर्मी तत्व है जिसके किरणों का प्रयोग कैंसर के उपचार में किया जाता है।
  9. यलो केक यूरेनियम आक्साइड को कहते हैं।
  10. लेड पेंसिल में लेड प्रतिशत शून्य होता है।
  11. सिमेंट बनाने में चूना पत्थर और मृत्तिका के मिश्रण को खूब तप्त किया जाता है।
  12. धातुएं सुचालक होती हैं क्योंकि उनमें मुक्त इलेक्ट्रॉन होते हैं।
  13. सुहागा का प्रयोग आमतौर पर माउथ वास और टूथपेस्ट निर्माण में किया जाता है।
  14. एलनिको मिश्र धातु का प्रयोग चुंबक बनाने के लिए किया जाता है
  15. इटाई रोग कैडमियम के प्रदूषण के कारण होता है।
  16. पैलेडियम धातु का प्रयोग वायुयान के निर्माण में होता है।
  17. गेलियम धातु कमरे के तापमान पर द्रव अवस्था में होती है।
  18. नागासाकी पर USA द्वारा गिराए गए परमाणु बम में प्लूटोनियम का प्रयोग किया गया था।
  19. मैडम क्यूरी ने रेडियम एवं पोलोनियम की खोज की थी।
  20. आतिशबाजी में हरा रंग बेरियम की उपस्थिति के कारण होता है शुष्क सेल में मैग्नीज़ डाइऑक्साइड विध्रुवक का कार्य करता है।
कांच का प्रदत्त रंग प्रयुक्त धात्विक ऑक्साइड
पीला यूरेनियम ऑक्साइड
लाल क्यूप्रस ऑक्साइड
नीला कोबाल्ट आक्साइड
हरा क्रोमियम आक्साइड

      

  1. प्लूटोनियम सर्वाधिक कृत्रिम रूप से उत्पादित तत्व है।
  2. यूरेनियम के रेडियो एक्टिव विद्युतन के फलस्वरुप अंततः सीसा बनता है।
  3. माणिक का लाल रंग क्रोमियम आक्साइड की उपस्थिति के कारण होता है।
  4. कांच एक अति शीतित द्रव होता है इसकी श्यानता अनन्त होती है।
  5. ज़िंक ऑक्साइड को ‘यशद पुष्प’ कहते हैं।
  6. सिल्वर क्लोराइड की उपस्थित के कारण फोटोक्रोमेटिक कांच धूप में काले रंग का हो जाता है।
  7. कांच एक मानव निर्मित सिलिकेट है।
  8. बुलेट प्रूफ कांच पॉलीकार्बोनेट से निर्मित होता है
  9. लौह धातु में कॉपर सल्फेट विलियन/घोल से तांबे का निक्षेप हो जाता है।

संक्षिप्त तथ्य:

  • वर्तमान में कुल ज्ञात तत्व- 118
  • प्रकृति में प्राप्त तत्व- 98
  • कृत्रिम तरीके से निर्मित तत्व- 20
  • धातु की संख्या- 91
  • अधातु की संख्या- 27
  • सबसे हल्का तत्व हाइड्रोजन 
  • सबसे हल्का धातु तत्व लिथियम 
  • द्रव धातु तत्व पारा 
  • द्रव अधातु तत्व ब्रोमीन 
  • विद्युत का सबसे अच्छा सुचालक तत्व चांदी 
  • विद्युत का सुचालक अधातु ग्रेफाइट 
  • सबसे अधिक आघातवर्धनीय तत्व सोना 
  • सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व फ्लोरीन 
  • सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व सीजियम
  • सबसे अधिक समस्थानिक वाला तत्व पोलेनियम 
  • सबसे भारी तत्व ऑस्मियम
  • पृथ्वी पर सबसे अधिक मात्रा में पाए जाने वाला तत्व ऑक्सीजन
  •  पृथ्वी पर सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला धातु तत्व एलुमिनियम
  •  सबसे अधिक आघातवर्धनीय तत्व सोना
  •  सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व क्लोरीन
  •  सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व सीजियम.
  •  सर्वाधिक आयनन विभव वाला तत्व हीलियम
  •  न्यूनतम आयन विभव वाला तत्व सीजियम
  •  मानव शरीर में सर्वाधिक मात्रा में पाए जाने वाला तत्व ऑक्सीजन
  •  मिट्टी के तेल में रखे जाने वाला तत्व सोडियम सर्वाधिक विद्युत धनात्मक एवं सर्वाधिक प्रबल ऑक्सीकारक तत्व क्लोरीन
  •  सर्वाधिक गैसीय तत्वों वाला आवर्त सारणी का वर्ग  शून्य वर्ग
  • अम्लराज में 3 भाग सांद्र हाइड्रोक्लोरिक अम्ल (HCl) एवं एक भाग सांद्र नाइट्रिक अम्ल (HNO3) होता है।
  • अति मुलायम खनिज डाल सुपर स्टोन मुख्यता मैग्नीशियम सिलिकेट है।
  • प्लास्टर ऑफ पेरिस (CaSO4.½H2O) कैल्शियम सल्फेट है।
  • मोनाजाइट थोरियम का अयस्क है।
  • माइका उष्मा का चालक है तथा विद्युत का कुचालक है।
  • पिंच ब्लैंड से यूरेनियम प्राप्त किया जाता है।
  • बॉक्साइट एल्मुनियम का अयस्क है
  • सबसे हल्का तत्व हाइड्रोजन।
  • सबसे हल्का धातु तत्व लिथियम।
  • द्रव धातु तत्व पारा।
  • द्रव अधातु तत्व ब्रोमीन।
  • विद्युत का सबसे अच्छा सुचालक तत्व चांदी।
  • विद्युत का सुचालक अधातु ग्रेफाइट।
  • सबसे अधिक आघातवर्धनीय तत्व सोना।
  • सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व फ्लोरीन।
  • सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व सीजियम
  • सबसे अधिक समस्थानिक वाला तत्व पोलेनियम ।
  • सबसे भारी तत्व ऑस्मियम।
  • पृथ्वी पर सबसे अधिक मात्रा में पाए जाने वाला तत्व ऑक्सीजन
  •  पृथ्वी पर सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला धातु तत्व एलुमिनियम
  •  सबसे अधिक आघातवर्धनीय तत्व सोना
  •  सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व क्लोरीन
  •  सबसे अधिक क्रियाशील धातु तत्व सीजियम.
  •  सर्वाधिक आयनन विभव वाला तत्व हीलियम
  •  न्यूनतम आयन विभव वाला तत्व सीजियम
  •  मानव शरीर में सर्वाधिक मात्रा में पाए जाने वाला तत्व ऑक्सीजन
  •  मिट्टी के तेल में रखे जाने वाला तत्व सोडियम सर्वाधिक विद्युत धनात्मक एवं सर्वाधिक प्रबल ऑक्सीकारक तत्व क्लोरीन
  •  सर्वाधिक गैसीय तत्वों वाला आवर्त सारणी का वर्ग  शून्य वर्ग
  • अम्लराज में 3 भाग सांद्र हाइड्रोक्लोरिक अम्ल (HCl) एवं एक भाग सांद्र नाइट्रिक अम्ल (HNO3) होता है।
  • अति मुलायम खनिज डाल सुपर स्टोन मुख्यता मैग्नीशियम सिलिकेट है।
  • प्लास्टर ऑफ पेरिस (CaSO4.½H2O) कैल्शियम सल्फेट है।
  • मोनाजाइट थोरियम का अयस्क है।
  • माइका उष्मा का चालक है तथा विद्युत का कुचालक है।
  • पिंच ब्लैंड से यूरेनियम प्राप्त किया जाता है।
  • बॉक्साइट एल्मुनियम का अयस्क है
  • घनत्व के अवरोही क्रम अनुसार सोना–पारा- इस्पात सही क्रम है।
  • सोडियम धातु का संचयन केरोसिन में किया जाता है क्योंकि हवा में खुला रखने पर या ऑक्सीजन के साथ क्रिया करके ऑक्साइड बनाता है।
  • सोडियम वाष्प लैंप प्राय: सड़क प्रकाश के लिए प्रयुक्त होते हैं क्योंकि इनका प्रकाश एकवर्णीय है और पानी की बूंदों से गुजरने पर विभक्त नहीं होता।
  • प्रतिदीप्ति नलिका में पारा वाष्प तथा आर्गन भरी जाती है।
  • सोने को अम्लराज (Aquaregia) में घोला जा सकता है। जिसमें सोना घुलकर क्लोरोआरिक अम्ल (HAuCl4) बनाता है।
  • परमाणु की प्रभावी त्रिज्या 10-6 m होती है।
  • आठवीं कक्षा का अभिन्यास चुंबकीय क्वांटम संख्या द्वारा नियंत्रित होता है चुंबकीय क्वांटम संख्या का संबंध चक्रण से होता है।
  • किसी तत्व के रासायनिक गुण इलेक्ट्रॉनों की संख्या द्वारा तय होता है।
  • सर्वाधिक इलेक्ट्रॉन प्राप्ति वाला तत्व क्लोरीन है।
  • सर्वाधिक विद्युत ऋणत्मकत एवं सबसे प्रबल ऑक्सीकारक तत्व फ्लोरीन।
  • सामान्य मानव शरीर में प्रमुख तत्वों की औसत मात्राएं ऑक्सीजन 65%, कार्बन 18 %, हाइड्रोजन 10%, नाइट्रोजन 3%, कैल्शियम 2%, फास्फोरस 1%, पोटेशियम 0.35%।
  • ऐसे तत्व जिनमें धातु और अधातु दोनों के गुण पाए जाते हैं उपधातु कहलाते हैं उदाहरण आरसेनिक एंटी मनी बिस्मथ।
  • लेड धातु होते हुए भी विद्युत का कुचालक है।
  • ग्रेफाइट एवं आयोडीन में आधातु होते हुए भी धातु की चमक पाई जाती है।
  • हीरा में कार्बन, संगमरमर में कैल्शियम, रेत में सिलिकॉन एवं माणिक में अल्मुनियम तत्व पाया जाता है।
  • जल प्रकृति की तीनों अवस्थाओं ठोस द्रव एवं गैस तीनों रूप में पाया जाता है।
  • वायु विभिन्न गैसों का मिश्रण है वायु न तो तत्व है और ना ही यौगिक पदार्थ।
  • प्लाज्मा को पदार्थ की चौथी अवस्था कहते हैं।
  • विश्व का प्रत्येक पदार्थ अत्यंत सूक्ष्म कणों से मिलकर बना होता है यह सर्वप्रथम कणाद ऋषि ने कहा था।
  • पाउली के नियम के अनुसार एक परमाणु में दो इलेक्ट्रॉनों की चारो क्वांटम संख्याएं आपस में समान नहीं हो सकती।
  • परमाणु संरचना का मॉडल बोर एवं रदरफोर्ड ने विकसित किया था।
  •  2, 8, 18, 2 इलेक्ट्रॉनिक संरूपण धातु तत्वों के लिए होता है।
  • 18, इलेक्ट्रॉन वह अधिकतम संख्या है जो M सेल में रह सकती है।
  • किसी तत्व के रासायनिक गुण उसकी परमाणु संख्या पर निर्भर होते हैं।
  • मेसान वह मूल कण है जो न्यूक्लियान को बांधे रखता है।
  • हाइजेनबर्ग के अनिश्चितता सिद्धांत के अनुसार ‘इलेक्ट्रॉन जैसे छोटे कणों की स्थिति का वेग का युगपत निर्धारित नहीं किया जा सकता। यदि किसी कक्षा की संख्या n हो तो किसी कक्षा में अधिकतम इलेक्ट्रॉन की संख्या 2n2  होगी।
  • हुंड के नियम के अनुसार इलेक्ट्रॉन तब तक युग्मित नहीं होते जब तक उनके लिए प्राप्त रिक्त कक्षक समाप्त ना हो जाए।
  • सोडियम का परमाणु क्रमांक 11 तथा परमाणु भार 23 है तो इसमें इलेक्ट्रॉन न्यूट्रॉन एवं प्रोटॉन की संख्या 11, 12 एवं 11 होगी।
  • भूपर्पटी पर पाए जाने वाले प्रमुख तत्व एवं उनका प्रतिशत: ऑक्सीजन 49.9%, सिलिकॉन 26%,एलुमिनियम 7.3%, लोहा 4.1%, कैल्शियम 3.9%, सोडियम 2.3%, पोटेशियम 2.3%, मैग्नीशियम 2.1%,एवं अन्य 2.8%।
  • सिलिकॉन की खोज 1824 में जे जे बर्जीलियस द्वारा की गई थी सिलिकॉन चिप का उपयोग कंप्यूटरों, मोबाइल एवं अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में सेमीकंडक्टर के रूप में होता है।
  • विश्व में सर्वाधिक पाया जाने वाला तत्व हाइड्रोजन है सभी प्राकृतिक वस्तुओं में सर्वाधिक कठोर तत्व (अधातु) हीरा है।
  • प्लैटिनम सबसे कठोर धातु है।
  • सबसे भारी प्राकृतिक तत्व यूरेनियम है जिसका परमाणु भार 238.03 तथा घनत्व 19.05 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • मोती में 85% कैल्शियम कार्बोनेट ( एरागोंनाइट), 2 से 4% जल तथा 0 से 10% कांचियोलिन (एक प्रकार का प्रोटीन) पाया जाता है।
  • माणिक्य और नीलम रासायनिक रूप से एल्मुनियम अयस्क होते हैं।
  • घनत्व के अवरोही क्रम अनुसार सोना–पारा- इस्पात सही क्रम है।
  • सोडियम धातु का संचयन केरोसिन में किया जाता है क्योंकि हवा में खुला रखने पर या ऑक्सीजन के साथ क्रिया करके ऑक्साइड बनाता है।
  • सोडियम वाष्प लैंप प्राय: सड़क प्रकाश के लिए प्रयुक्त होते हैं क्योंकि इनका प्रकाश एकवर्णीय है और पानी की बूंदों से गुजरने पर विभक्त नहीं होता।
  • प्रतिदीप्ति नलिका में पारा वाष्प तथा आर्गन भरी जाती है।
  • सोने को अम्लराज (Aquaregia) में घोला जा सकता है। जिसमें सोना घुलकर क्लोरोआरिक अम्ल (HAuCl4) बनाता है।
  • परमाणु की प्रभावी त्रिज्या 10-6 m होती है।
  • आठवीं कक्षा का अभिन्यास चुंबकीय क्वांटम संख्या द्वारा नियंत्रित होता है चुंबकीय क्वांटम संख्या का संबंध चक्रण से होता है।
  • किसी तत्व के रासायनिक गुण इलेक्ट्रॉनों की संख्या द्वारा तय होता है।
  • सर्वाधिक इलेक्ट्रॉन प्राप्ति वाला तत्व क्लोरीन है।
  • सर्वाधिक विद्युत ऋणत्मकत एवं सबसे प्रबल ऑक्सीकारक तत्व फ्लोरीन।
  • सामान्य मानव शरीर में प्रमुख तत्वों की औसत मात्राएं ऑक्सीजन 65%, कार्बन 18 %, हाइड्रोजन 10%, नाइट्रोजन 3%, कैल्शियम 2%, फास्फोरस 1%, पोटेशियम 0.35%।
  • ऐसे तत्व जिनमें धातु और अधातु दोनों के गुण पाए जाते हैं उपधातु कहलाते हैं उदाहरण आरसेनिक एंटी मनी बिस्मथ।
  • लेड धातु होते हुए भी विद्युत का कुचालक है।
  • ग्रेफाइट एवं आयोडीन में आधातु होते हुए भी धातु की चमक पाई जाती है।
  • हीरा में कार्बन, संगमरमर में कैल्शियम, रेत में सिलिकॉन एवं माणिक में अल्मुनियम तत्व पाया जाता है।
  • जल प्रकृति की तीनों अवस्थाओं ठोस द्रव एवं गैस तीनों रूप में पाया जाता है।
  • वायु विभिन्न गैसों का मिश्रण है वायु न तो तत्व है और ना ही यौगिक पदार्थ।
  • प्लाज्मा को पदार्थ की चौथी अवस्था कहते हैं।
  • विश्व का प्रत्येक पदार्थ अत्यंत सूक्ष्म कणों से मिलकर बना होता है यह सर्वप्रथम कणाद ऋषि ने कहा था।
  • पाउली के नियम के अनुसार एक परमाणु में दो इलेक्ट्रॉनों की चारो क्वांटम संख्याएं आपस में समान नहीं हो सकती।
  • परमाणु संरचना का मॉडल बोर एवं रदरफोर्ड ने विकसित किया था।
  •  2, 8, 18, 2 इलेक्ट्रॉनिक संरूपण धातु तत्वों के लिए होता है।
  • 18, इलेक्ट्रॉन वह अधिकतम संख्या है जो M सेल में रह सकती है।
  • किसी तत्व के रासायनिक गुण उसकी परमाणु संख्या पर निर्भर होते हैं।
  • मेसान वह मूल कण है जो न्यूक्लियान को बांधे रखता है।
  • हाइजेनबर्ग के अनिश्चितता सिद्धांत के अनुसार ‘इलेक्ट्रॉन जैसे छोटे कणों की स्थिति का वेग का युगपत निर्धारित नहीं किया जा सकता। यदि किसी कक्षा की संख्या n हो तो किसी कक्षा में अधिकतम इलेक्ट्रॉन की संख्या 2n2  होगी।
  • हुंड के नियम के अनुसार इलेक्ट्रॉन तब तक युग्मित नहीं होते जब तक उनके लिए प्राप्त रिक्त कक्षक समाप्त ना हो जाए।
  • सोडियम का परमाणु क्रमांक 11 तथा परमाणु भार 23 है तो इसमें इलेक्ट्रॉन न्यूट्रॉन एवं प्रोटॉन की संख्या 11, 12 एवं 11 होगी।
  • भूपर्पटी पर पाए जाने वाले प्रमुख तत्व एवं उनका प्रतिशत: ऑक्सीजन 49.9%, सिलिकॉन 26%,एलुमिनियम 7.3%, लोहा 4.1%, कैल्शियम 3.9%, सोडियम 2.3%, पोटेशियम 2.3%, मैग्नीशियम 2.1%,एवं अन्य 2.8%।
  • सिलिकॉन की खोज 1824 में जे जे बर्जीलियस द्वारा की गई थी सिलिकॉन चिप का उपयोग कंप्यूटरों, मोबाइल एवं अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में सेमीकंडक्टर के रूप में होता है।
  • विश्व में सर्वाधिक पाया जाने वाला तत्व हाइड्रोजन है सभी प्राकृतिक वस्तुओं में सर्वाधिक कठोर तत्व (अधातु) हीरा है।
  • प्लैटिनम सबसे कठोर धातु है।
  • सबसे भारी प्राकृतिक तत्व यूरेनियम है जिसका परमाणु भार 238.03 तथा घनत्व 19.05 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।
  • मोती में 85% कैल्शियम कार्बोनेट ( एरागोंनाइट), 2 से 4% जल तथा 0 से 10% कांचियोलिन (एक प्रकार का प्रोटीन) पाया जाता है।
  • माणिक्य और नीलम रासायनिक रूप से एल्मुनियम अयस्क होते हैं।

नवीनतम खोजे गए चार तत्व

निहोनियम 113    (Nh)
मास्कोवियम 115    (Mc)
टेंन्नेसाइन 117    (Ts)
ओगेनोसन 118    (Og)

        

शेष अगले भाग में-

रसायन विज्ञान (भाग- 1) पढ़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!

रसायन विज्ञान (भाग- 2) पढ़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!

 

हमारे YouTube चैनल से जुड़ने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें!